Friday, 16 July 2010

छोटे शहर में light

छोटे शहर में लाइट उतनी देर ही रहती है जितनी देर बड़े शहर में आदमी टॉयलेट में रहता है।
यह जानने के लिये कि छोटे शहर में चौबीस घंटों में कितनी देर लाइट आती होगी, आपको टॉयलेट मे जाने की जरूरत नहीं। यह बात आप टॉयलेट के बाहर बैठकर भी जान सकते हैं।
छोटे शहर का आदमी कम्प्यूटर के सामने अपनी ईमेल चैक करने के लिये बैठता है तो लाइट चली जाती है और आदमी बेचारा अपनी फीमेल ही देखता रह जाता है। शायद इसलिये छोटे शहर की लाइट जाने पर आदमी सीधा चीफ मिनिस्टर को कोसता है, पॉवर ग्रिड को नहीं।
लाइट जाने के बाद अंधेरे में कौन-कौन से कार्य सम्पन्न किये जा सकते हैं, इस पर अनगिनत पोथियां लिखी जा सकती हैं। लेकिन लाइट आने के बाद छोटे शहर का आदमी जो कार्य सर्वप्रथम करता है' वह होता है अपनी और अपने घर की बैटरियां चार्ज करना।
कुछ वर्षों पूर्व मैंने अपने एक कजिन से जो एक महानगर में रहता था, बात-बात में पूछा था कि आपके यहां लाइट कब-कब जाती है, सुनकर उसने मुस्कुराते हुए जवाब दिया था कि मैंने तो यहां कभी लाइट जाती देखी ही नहीं।
प्रतिउत्तर में मैंने अपने कजिन का मजाक उडाया कि तुम कितने दुर्भाग्यशाली हो जो जाती हुई लाइट को आज तक देख नहीं पाये। हमें देखो कि हम एक छोटे से कस्बे में रहते हैं फिर भी इंसान के इस चमत्कार को दिन में अडतालीस दफा (उन दिनों हमारे टाउन में लाइट अडतालीस बार जाती थी) देखते हैं।
जब वह फिर मुस्कुराया तो मैंने उसे लताडा कि यह मुस्कुराने का नहीं, झेंपने का विषय है कि उसने कभी लाइट को जाते हुए नहीं देखा।
मेरी पत्नी जब कभी लाइट का संदर्भ लेते हुए छोटे शहर को छोड कर बडे शहर में शिफ्ट करने का सुझाव देती है तो मैं उसे समझाता हूं कि हमारे यहां लाइट बार-बार जा रही है तो बार-बार आ भी तो रही है। बडे शहर में तो सिर्फ एक बार ही जाती है और एक बार ही आती है।
मैं उसे यह भी समझाता हूं कि हम उनसे बेहतर स्थिति में हैं जिन गांवों में लाइट एक बार जाती है तो फिर कभी नहीं आती।
जैसे इस देश में ईमानदारी की बत्ती एक बार गुल हुई है तो उसके दर्शन अभी तक नहीं हुए।
वैसे भी बड़े शहर के सामने छोटे शहर की बत्ती हमेशा गुल ही रहती है।
कभी आधी रात को आपको, हाथ में पंखा लिये, छतों पर टहलते, पसीना सुखाते और मच्छर मारते हुए लोग छतों पर दिखाई दें तो आप समझ जाइये कि आपका हवाई जहाज लाइट आने की प्रतीक्षा में रात काटते हुए किसी छोटे शहर के ऊपर से गुजर रहा है।

No comments:

Post a comment